एम्स बिलासपुर में ओपीडी सुविधा का शुभारंभ

हिमाचल ने पात्र लक्षित आबादी का शत-प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य हासिल किया

शिमला।   राज्यसभा सांसद और राष्ट्रीय भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि आगामी छः महीनों के भीतर एम्स बिलासपुर को पूरी तरह से शुरू कर दिया जाएगा और क्षेत्र के लोगों के साथ प्रदेश के लोगों को राज्य में ही अत्याधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी। वे आज बिलासपुर में राज्य की लक्षित पात्र आबादी के शत-प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल करने के ऐतिहासिक अवसर पर कोविड टीकाकरण के अन्तर्गत कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों के सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे।
जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि दिल्ली से बाहर एम्स की स्थापना करना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की एक परिकल्पना थी, क्योंकि वर्ष 1960 में दिल्ली में पहला एम्स स्थापित किया गया था। उन्होंने कहा कि पूरे देश में 22 एम्स स्थापित किए जा रहे हैं और यह सब प्रधानमंत्री के प्रयासों से सम्भव हो पाया है। उन्होंने कहा कि इस संस्थान की आधारशिला प्रधानमंत्री द्वारा लगभग तीन वर्ष पहले रखी गई थी। इस संस्थान को एक वर्ष पूर्व पूरा कर लिया जाता, परन्तु कोरोना महामारी के कारण इस संस्थान के कार्य की गति प्रभावित हुई। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के ऊना जि़ला को पीजीआई चंडीगढ़ का 500 करोड़ रुपये का सैटेलाइट सेन्टर मिला है।
राष्ट्रीय भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि अमेरिका जैसे उन्नत राष्ट्र भी इस महामारी से निपटने में विफल रहे हैं, जबकि 130 करोड़ आबादी वाला देश भारत, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सक्षम नेतृत्व में विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू कर इस महामारी को रोकने में सफल हुआ है। उन्होंने कहा कि देश में अब तक 127 करोड़ टीकाकरण की खुराकें दी जा चुकी हैं और विश्व के लगभग 50 देशों को वैक्सीनेशन आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने इस महत्त्वपूर्ण उपलब्धि को हासिल करने के लिए राज्य सरकार, चिकित्सकों, स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों और सभी अग्रिम पंक्ति के कर्मियांें को बधाई दी क्योंकि उनके समर्पण और प्रतिबद्धता के कारण ही हिमाचल, टीकाकरण में अग्रणी राज्य बनकर उभरा है।
जगत प्रकाश नड्डा ने कहा कि हिमाचल प्रदेश शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक सेवा जैसे क्षेत्रों में देश का अग्रणी राज्य है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के सक्षम नेतृत्व के कारण यह सम्भव हो पाया है। उन्होंने कहा कि राज्य को देश का आदर्श राज्य बनाने के लिए मुख्यमंत्री ने समर्पण भाव से कार्य किया है। उन्होंने भाजपा की सरकारों को प्रदेश के विकास का श्रेय दिया। उन्होंने कहा कि कोलडेम, अटल सुरंग और प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की देन है और उनकी सोच और सपने को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पूरा कर रहे हैं।
इससे पहले सांसद और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा, केंद्रीय स्वास्थ्य, रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख मंडाविया, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर और केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा युवा कार्य एवं खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने जिला बिलासपुर के एम्स कोठीपुरा में ओपीडी जनता को समर्पित की। एम्स बिलासपुर के डाॅ. कपिल शर्मा ने इस प्रतिष्ठित संस्थान की पहली ओपीडी मरीज जिला कुल्लू की रेखा का ईलाज भी किया।
उन्होंने कोविड टीकाकरण में कार्यरत चिकित्सकों और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को इस अवसर पर सम्मानित किया।
 केंद्रीय स्वास्थ्य, रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि एम्स वास्तव में राज्य को केंद्र सरकार का एक अमूल्य उपहार है। उन्होंने कहा कि विश्व ने देश की बौद्धिक ताकत को स्वीकार किया है। उन्होंने कहा कि नासा में कार्यरत 10 वैज्ञानिकों में से लगभग तीन वैज्ञानिक भारतीय हंै। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत देश की शक्ति को पहचाना और कोरोना वायरस के विरूद्ध स्वदेशी टीका विकसित करने के लिए वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि विश्व के 100 देशों को भारत में निर्मित एजिनोमाइसिन और रेमडेसीवीर जैसी दवाओं की आपूर्ति की गई। उन्होंने कहा कि देश में 123 करोड़ से अधिक वैक्सीन की डोज तैयार की गई है और अन्य देशों को भी इसका निर्यात किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अपने वैज्ञानिकों, चिकित्सकों, उद्यमियों पर किए गए विश्वास के कारण ही यह सम्भव हो पाया। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश ने शत प्रतिशत टीकाकरण के अद्वितीय गौरव को हासिल कर देश के अन्य राज्यों का मार्ग प्रशस्त किया है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रदेश के लोगों के लिए एक ऐतिहासिक अवसर है। प्रदेश के लोगों को स्वास्थ्य क्षेत्र में सर्वोत्तम सेवाएं प्रदान करने में  एम्स बिलासपुर की ओपीडी सुविधा मील का पत्थर साबित होगी और हिमाचल प्रदेश ने कोविड टीकाकरण की दूसरी डोज का शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया है। उन्होंने कहा कि अब प्रदेश के लोगों को यहां हर प्रकार की बीमारी का सुपर स्पेशियलिटी उपचार की सुविधा मिलेगी और बिलासपुर में स्थित एम्स से प्रदेश के लाखों लोगों को ही नहीं अपितु पड़ोसी राज्यों के लोगों को भी लाभ मिलेगा।
 जय राम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश जैसे छोटे पहाड़ी राज्य को महत्त्व प्रदान कर एम्स का उपहार देने के लिए प्रदेश की जनता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आभारी है। उन्होंने कहा कि नरेन्द्र मोदी ने हिमाचल को हमेशा अपना दूसरा घर माना है और लोगों की अपेक्षाओं के अनुरूप प्रदेश के विकास के लिए अपना पूर्ण आशीर्वाद प्रदान किया है। उन्हें इस ऐतिहासिक अवसर पर भाजपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने बिलासपुर में एम्स की स्थापना का सपना संजोया था और आज उनके निरंतर प्रयासों द्वारा हम सब ने इस सपने को साकार किया है। यह प्रदेश के लिए गौरव की बात है कि हिमाचल पुत्र जगत प्रकाश नड्डा विश्व की सबसे बड़े राजनैतिक दल का नेतृत्व कर रहे हैं और अनुराग सिंह ठाकुर मोदी सरकार में सबसे महत्त्वपूर्ण मंत्रालयों में से एक का कार्यभार संभाल रहे हैं।
 मुख्यमंत्री ने कहा कि आज प्रदेश के लिए एक ऐतिहासिक अवसर है क्योंकि प्रदेश ने लक्षित आयु वर्ग क कोविड टीकाकरण की दूसरी डोज के शत-प्रतिशत लक्ष्य को हासिल किया है। उन्होंने कहा कि कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद प्रदेश ने पात्र आबादी के कोविड टीकाकरण की पहली डोज के शत-प्रतिशत टीकाकरण लक्ष्य को हासिल करने में देश में पहला स्थान प्राप्त किया था और अब प्रदेश ने लक्षित पात्र आबादी को कोविड टीकाकरण की दूसरी डोज के शत-प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल कर इतिहास रच दिया है। उन्होंने टीकाकरण अभियान में पूर्ण सहयोग देने के लिए राज्य के लोगों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि चिकित्सकों, स्वास्थ्य र्किर्मयों, आशा कार्यकर्ताओं ने इस टीकाकरण अभियान में अपना महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान कर प्रदेश के लोगों को गौरवान्वित किया है। उन्होंने कहा कि जिला कांगड़ा के बड़ाभंगाल और जिला कुल्लू के मलाणा गांव में हवाई सुविधा द्वारा वैक्सीन, चिकित्सक और पैरामेडिकल स्टाफ उपलब्ध करवाकर लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित किया गया।
जय राम ठाकुर ने कहा कि  कोरोना की सम्भावित तीसरीं लहर से निपटने के लिए प्रदेश पूरी तरह तैयार है। राज्य के अस्पतालों में बिस्तरों की क्षमता को 3,804 से बढ़ाकर 8,765 कर दिया गया है जिसकी क्षमता को बढ़ाकर 11,000 किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए सभी महत्त्वपूर्ण कदम उठाए हैं और सभी जिलों में कोविड जांच की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। प्रदेश के सभी जिलों के सभी चिकित्सा महाविद्यालयों और संस्थानों में आरटीपीसीआर सुविधा उपलब्ध करवाई गई है।
केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण, युवा कार्य एवं खेल मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने 53.77 लाख से अधिक की लक्षित आबादी के दूसरी खुराक के शत-प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल करने के लिए मुख्यमंत्री और राज्य की जनता को बधाई दी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समयबद्ध और उचित निर्णय से देश ने इस महामारी पर सफलतापूर्वक नियंत्रण पाया है। उन्होंने कहा कि कोविड के आरम्भ में देश में एक भी पीपीई किट तैयार नहीं किया जाता था और आज देश न केवल प्रतिदिन 15 लाख पीपीई किट तैयार कर रहा है, बल्कि कई अन्य देशों में इसका निर्यात भी कर रहा है। उन्होंने कहा कि स्वदेशी टीकें तैयार कर देश में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आगामी छह वर्षों में एम्स बिलासपुर बनकर तैयार हो जाएगा और इस संस्थान में राज्य के लोगों को विश्वस्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध होंगी। उन्होंने टीके की शून्य प्रतिशत बर्बादी सुनिश्चित करने के लिए राज्य को बधाई दी।
राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डाॅ राजीव सैजल ने इस अवसर पर राज्यसभा सदस्य एंव राष्ट्रीय भाजपा अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा, केन्द्रीय स्वास्थ्य, रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख मंडाविया, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर और केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर और अन्य गणमान्य व्यक्यिों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य के सक्षम और प्रतिबद्ध नेतृत्व के कारण ही देश और राज्य इस महामारी से सफलतापूर्वक निपट पाए हैं। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश राज्य ने लक्षित पात्र आयु वर्ग के शत-प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने में देश का पहला राज्य होने का यह गौरव हासिल किया है।
उन्होंने कहा कि तमाम बाधाओं के बावजूद राज्य ने यह उपलब्धि हासिल की है जिसकी प्रधानमंत्री ने सराहना की है। उन्होंने कहा कि पूर्ण टीकाकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पंचायती राज विभाग के माध्यम से विशेष ग्राम सभाओं का आयोजन किया गया जिसके तहत हर घर का सर्वेक्षण कर पात्र व्यक्यिों की सूची तैयार की गयी। उन्होंने कहा कि दिव्यांग व बुजुर्ग व्यक्तियों का मोबाइल दल तथा घर-घर टीकाकरण के माध्यम से टीकाकरण सुनिश्चित किया गया। उन्होंने कहा कि राज्य के दुर्गम क्षेत्रों और जनजातीय क्षेत्रों में पूर्ण टीकाकरण पहले पूरा किया गया और जिला किन्नौर सभी पात्र व्यस्कों को कोरोना की दूसरी खुराक देने वाला पूरे देश में पहला जिला बना। उन्होंने कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों में काम करने वाले श्रमिकों की सुविधा के लिए उनकी सुविधा के अनुसार और उनके कार्यस्थल पर जाकर भी टीकाकरण सत्र आयोजित किए गए। खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले मंत्री राजिन्द्र गर्ग ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया। इस अवसर पर कोविड-19 टीकाकरण से संबंधित एक वृतचित्र भी दिखाया गया।
एम्स के कार्य में प्रगति के संबंध में निदेशक एम्स एवं अन्य अधिकारियों द्वारा एक प्रेजंेटेशन भी दी गई। सांसद और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप, जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर, शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डाॅ. राम लाल मारकंडा, ऊर्जा मंत्री सुख राम चैधरी, विधायक, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार त्रिलोक जम्वाल, विभिन्न बोर्डों और निगमों के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष, मुख्य सचिव राम सुभग सिंह, सचिव स्वास्थ्य अमिताभ अवस्थी, एम्स के अध्यक्ष प्रमोद गर्ग, एम्स बिलासपुर के निदेशक डाॅ. वीर सिंह नेगी सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *