चंडीगढ़ में चयनित सड़कों के जीआईएस आधारित मैकेनिकल और मैनुअल स्वीपिंग के लिए पुनर्निविदा की प्रक्रिया” में जानबूझकर की जा रही देरी:देवशाली

भारतीय जनता  पार्टी के पार्षद शक्ति प्रकाश देवशाली ने निगम आयुक्त को पत्र लिखकर जांच करने  की मांग की

चंडीगढ़ । निगम आयुक्त को लिखे पत्र में शक्ति प्रकाश देवशाली ने कहा कि दिनांक 31.05.2021 को आयोजित सदन की 297वीं बैठक में “चंडीगढ़ में चयनित सड़कों की जीआईएस आधारित यांत्रिक और मैनुअल स्वीपिंग (दक्षिण मार्ग से परे मौजूद सभी क्षेत्रों, गांवों, कॉलोनियों) और विस्तार के लिए अनुरोध” का एजेंडा जनरल हाउस के समक्ष नवीन निविदामौजूदा ठेके के विस्तार हेतु विचार एवं अनुमोदन हेतु रखा गया थानगर निगम सदन को यह भी बताया गया कि इससे पहले आयुक्त, एमसीसी द्वारा ‘संयुक्त सीएमसी की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई थी जिसमें मुख्य अभियंता, एमसीसी; मुख्य लेखा अधिकारी, एमसीसी; श्री यादविंदर सिंह, विधि अधिकारी, एमसीसी; श्री सुशील वैद, एसी (एफएंडए) और एमओएच, एमसीसी के प्रतिनिधि  चंद्र मोहन, सीएसआई, एमओएच शामिल थे””विचारविमर्श के बाद, समिति ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि मेसर्स लायन सर्विसेज लिमिटेड की अनुबंध अवधि को बढ़ाया नहीं जाना चाहिए और अनुबंध को नए सिरे से आवंटित किया जाना चाहिए।”सभी तथ्यों को देखने और सदन के सदस्यों द्वारा विस्तृत चर्चा के बाद,”सदन ने बहुमत से विचार किया और निर्णय लिया कि चंडीगढ़ में चयनित सड़कों के जीआईएस आधारित यांत्रिक और मैनुअल स्वीपिंग के लिए पुनर्निविदा की प्रक्रिया शुरू की जाए।”मैनुअल स्वीपिंग का मौजूदा अनुबंध 30.11.2021 को और मैकेनिकल स्वीपिंग का 14.02.2022 को समाप्त हो जाएगादेवशाली ने कहा कि चार महीने से अधिक समय बीत जाने के बाद भी नगर निगम चंडीगढ़ द्वारा कोई टेंडर नहीं निकाला गया हैऐसा लगता है कि उल्लिखित क्षेत्र में मैनुअल और मैकेनिकल स्वीपिंग की निविदा में जानबूझकर देरी की गई है जिसके कारण नगर निगम को पहली दिसंबर से (समझौते के खंड 3.1.3 के अनुसार)  डुलेवो 5000 रोड स्वीपिंग मशीन अन्य फिटिंग और फिक्स्चर के साथ एमसीसी की संपत्ति बनने में अनावश्यक देरी होगी पुनर्निविदा प्रक्रिया में देरी से नगर निगम चंडीगढ़ को अनावश्यक वित्तीय नुकसान होगा।  पुनर्निविदा प्रक्रिया में देरी से शहर में साफ-सफाई की समस्या पैदा होगी और नगर निगम चंडीगढ़ की छवि खराब होगी।  पुनर्निविदा प्रक्रिया में देरी जानबूझकर और निगम सदन की भावनाओं की अनदेखी के साथ-साथ सदन द्वारा पारित प्रस्ताव की अनदेखी प्रतीत होती है। पुनर्निविदा प्रक्रिया में जानबूझकर देरी, नगर निगम चंडीगढ़ को नुकसान पहुंचाकर किसी व्यक्ति या फर्म को अवांछित लाभ देने के लिए हो सकती है।
देवशाली ने निगम आयुक्त से मांग की कि तथ्यों पर विचार करते हुए मामले में हस्तक्षेप करें और पुनर्निविदा की प्रक्रिया में जानबूझकर की गई/की जा रही देरी की जांच प्रारंभ करें। इसके अलावा, जिम्मेदार अधिकारियों की जवाबदेही तय की जाए तथा नगर निगम चंडीगढ़ और नागरिकों के हित में उचित कार्यवाही की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *