पटाखे बैन करने वाले फैंसले पर प्रशासन के खिलाफ उग्र हुये हिन्दू संगठनो व भाजपा के कई नेताओ की तेवर

चंडीगढ़:चंडीगढ़ प्रशासन का पटाखों पर बैन लगाने का फैसला किया है| चंडीगढ़ में पटाखे बैन करने के प्रशासन के फैसले पर जबरदस्त ऐतराज हो रहा है| हिंदू संगठनों व भाजपा से जुड़े कई नेताओं के तेवर बड़े उग्र हैं। भाजपा सहित आम लोगों की दलील है कि केवल हिंदुओं के त्यौहारों पर ही प्रशासन क्यों कुठाराघात कर रहा है। लाखों लोगों की आस्थाओं से खेलने का अधिकार इन अफसरों को किसने दे दिया? इन अफसरों के नाक में क्या ज्यादा प्रदूषण और कानों में पटाखों की क्या ज्यादा आवाज गूंज रही है? लाखों-करोड़ों लोग अपने धार्मिक रीति रिवाजों से आस्था के पर्व दशहरा-दीवाली को मनाते हैं लेकिन प्रशासन के अफसर अब सीधे सीधे इसमें हस्तक्षेप कर रहे हैं।पंजाब से भाजपा के वरिष्ठ नेता नीरज तायल अभिलाषी का कहना है कि चंडीगढ़ प्रशासन या इसमें बैठे अफसर यह न समझें की उनकी मनमानी चलेगी। दशहरा-दीवाली व अन्य पर्व हिंदू आस्थाओं से जुड़े पर्व हैं। हम अपनी संस्कृति और धर्म के लिए हर कुर्बानी देने को तैयार हैं। प्रशासन ने पटाखे बैन कर और एनजीटी के आदेशों का हवाला देकर जो हरकत की है, वह किसी तरह स्वीकार नहीं।

प्रशासन को हम चेतावनी देते हैं कि या तो पटाखों पर से लगाया बैन तुरंत प्रभाव से हटा दें अन्यथा, जल्द ही हिंदू समाज के लोग सडक़ों पर हजारों की तादाद में उतरकर प्रशासन के अफसरों के घरों के बाहर न केवल प्रदर्शन करेंगे बल्कि पटाखे भी चलाएंगे। फिर हिंदुओं पर जो चाहे वो कार्रवाई कर देना। नीरज तायल ने कहा कि मुहरर्म पर जब बकरे कटते हैं तो तब प्रदूषण नहीं होता। प्रशासन उस समय किसी तरह का बैन लगाने की कोशिश नहीं करता।हिंदुओं के त्यौहारों को निशाना बनाने की साजिश चल रही है और चंडीगढ़ प्रशासन के कई अफसर इसमें शामिल हैं। अपनी निष्क्रियता को छुपाने के लिए ये अनर्गल फैसले लेते हैं। ये अफसर सीधे सीधे हिंदू धर्म में हस्तक्षेप कर रहे हैं। इन्हें किसने अधिकार दिया कि दीवाली या दशहरे पर कितनी बर्फी खानी है या कितने पटाखे चलाने हैं? यह सीधे सीधे हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं से खिलवाड़ है।ट्राईसिटी के पंचकूला व मोहाली प्रशासन की ओर से पटाखे चलाने पर इस तरह का कोई बैन नहीं लगाया गया है। चंडीगढ़ प्रशासन जनता के अनुरूप और उनकी भावनाओं को मद्देनजर रखते हुए दोबारा सोचे। शहर की कई संस्थाओं ने भी प्रशासन के फैसले के खिलाफ आवाज उठाई है। भाजपा के वरिष्ठ नेताओ ने भी चंडीगढ़ प्रशासन को पटाखों पर लगाया प्रतिबंध हटाने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि यह हिंदुओं की आस्थाओं को ध्यान रखते हुए फैसले पर पुनर्विचार किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *